Dhanteras 2017 Pooja Vidhi / Puja Vidi in English Hindi | Happy Dhanteras

Dhanteras or else called as Dhanvantri Jayanti or Dhantrayodashi is a popular festival in Hinduism celebrated on the first day of the five days of Deepavali (Diwali). This day is celebrated with a faith to bring wealth and prosperity to family by offering prayers to Goddess Laxmi and Kubera. The word ‘Dhantrayodashi’ / Dhanteras 2017 is a blend of the two words ‘Dhan’ meaning ‘wealth’ and Trayodashi meaning ‘prosperity’.

Dhanteras 2017

It is believed that Goddess Laxmi appeared from the milky sea on this day when the deities and demons where churning the sea to get the nectar of immortality (Amrut). So the devotees on this day worship Goddness Laxmi in quest of her blessing for prosperity.

While churning, the god of medicines or named as Dhanvantri Jayanti, also emerged from the milky sea. In the end of the churning, Dhanvanti appeared with a pot full of ‘Amrut’ from the ocean. Dhanvantri said to be the incarnation of Lord Vishnu, is therefore, worshipped on this auspicious day of Dhanteras.

The best time to offer prayers to Goddess Laxmi is during the Pradosh kaal which starts after sunset and lasts upto 2hours and 24 minutes. It is not advisable to perform the puja on Choghadiya Muharat as this time is only good for travelling. The perfect time for Laxmi puja is when the Sthir Lagna is prevalent. Sthri Lagna means unchanging or unmoveable. If the prayer is offered at this time then Laxmi will stay in your home. Vrishaba Lagna is also believed as Sthir and almost overlaps with Pradosh kaal during Diwali.

Yamadeep is another ceremony seen on the same day of Trayodashi Tithi when the earthen lamp for the Lord of death is lit outside the house to beat off any ill-timed death of the family members. It is imperative to buy and get home new things as it is believed that Ma Laxmi has herself arrived into the house.

Dhanteras 2017 Pooja / Puja Vidhi

Pooja Vidhi: Step 1- Step 1 is the Dhanteras Puja vidhi that is done by lighting earthen lamp for Yaman. Light the earthen lamp as an offering to Lord Yama. Then get a wooden slab and make swastik with rangoli on it. Now place the earthen lamp in the middle and light it. Then take a cowry shell with hole and place it in the earthen lamp, and sprinkle holy water (Gangajal) for three times around the lamp. Make tilak of holi on the lamp and put raw whole rice on the tilak. Add some sugar in the lamp and put a 1 rupee coin in it. Then offer some flowers to the earthen lamp and do pranam to the lamp. Offer this tilak to all the family members and then place this lamp outside the entrance gate of your home. The lamp must be placed in the right side of the door so that the flame faces the south direction.

Pooja Vidhi: Step 2- Here again, first, light the earthen lamp as adoration to Lord Yaman. Then go to your puja room and recite the Dhanwantari Mantra for 108 times. The mantra is: “Om Dhan Dhanvantaraye Namah” “ धं धन्वन्तरये नमः“. Once the chanting is done, say “O Lord Dhanwantari!. “I offer this recitation at your lotus feet. Please bless us good health”.

Pooja Vidhi: Step 3- This is about how to do Laxmi and Ganesh puja on Dhanteras. Panchopchar puja, the puja of Goddess Laxmi and Lord Ganesh, is followed just after the Dhanwantari puja. To perform this ceremony, first offer prayers to Ganeshji. Then offer him the earthen lamp, dhoop, flowers and sweets (naivedya).

Dhanteras Pooja Vidhi in Hindi

धन तेरस का महत्व

दिवाली के त्यौहार की शुरुआत धन तेरस से होती है। धन का मतलब पैसा और सम्पति होता है और तेरस कृष्णा पक्ष का तेरवां दिन है। यह कार्तिक मॉस में आता है। हिन्दू समाज में धनतेरस सुख-समृद्धि, यश और वैभव का पर्व माना जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर और आयुर्वेद के देव धन्वंतरि की पूजा का बड़ा महत्त्व है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाए जाने वाले इस महापर्व के बारे में स्कन्द पुराण में लिखा है कि इसी दिन देवताओं के वैद्य धन्वंतरि अमृत कलश सहित सागर मंथन से प्रकट हुए थे, जिस कारण इस दिन धनतेरस (Dhanteras) के साथ-साथ धन्वंतरि जयंती भी मनाई जाती है।

धन तेरस पूजा विधि

एक लकड़ी के बेंच पर रोली के माध्यम से स्वस्तिक का निशान बनाये।
फिर एक मिटटी के दिए को उस बेंच पर रख कर जलाएं।
दिए के आस पास तीन बारी गंगा जल का छिडकाव करें।
दिए पर रोली का तिलक लगायें। उसके बाद तिलक पर चावल रखें।
दिए में थोड़ी चीनी डालें।
इसके बाद 1 रुपये का सिक्का दिए में डालें।
दिए पर थोड़े फूल चढायें।
दिए को प्रणाम करें।
परिवार के सदस्यों को तिलक लगायें।
अब दिए को अपने घर के गेट के पास रखें। उसे दाहिने तरह रखें और यह सुनिश्चित करें की दिए की लौं दक्षिण दिशा की तरफ हो।
इसके बाद यम देव के लिए मिटटी का दिया जलायें और फिर धन्वान्तारी पूजा घर में करें।
अपने पूजा घर में भेठ कर धन्वान्तारी मंत्र का 108 बार जाप करें। “ॐ धन धनवंतारये नमः
जब आप 108 बारी मंत्र का जाप कर चुके होंगे तब इन पंक्तियों का उच्चारण करें “है धन्वान्तारी देवता में इन पंक्तियों का उच्चारण अपने चरणों में अर्पण करता हूँ।
धन्वान्तारी पूजा के बाद भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पंचोपचार पूजा करना अनिवार्य है।
भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के लिए मिटटी के दियें जलाएं। धुप जलाकर उनकी पूजा करें। भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के चरणों में फूल चढायें और मिठाई का भोग लगायें।
धनतेरस 2017(Dhanteras 2017)

साल 2017 में धनतेरस का त्यौहार 17 अक्टूबर को मनाया जाएगा। जानें कैसे करें धनतेरस के दिन पूजा: Dhanteras Puja Vidhi in Hindi

धनतेरस के दिन खरीददारी (Shoping on Dhanteras in Hindi)
नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परंपरा है। आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।

धनतेरस कथा (Dhanteras Katha in Hindi)
कहा (Dhanteras Story in Hindi) जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

Conclusion

The Diwali festival or the festival of lights is believed to ward off the evil forces by the scared light of the earthen lamps. The bright decoration of the festival is like an invitation to the good times. May your Diwali be an awesome one with the blessing of Goddess Laxmi.

Happy Dhanteras 2017 History in Hindi, English, Marathi

India is a culturally rich and diverse country. In twelve months of a year; we Indians celebrate hundreds of festivals and rituals some of which have also gained international recognitions. Dhanteras is one such festival which makes Indian culture … [Continue reading]